Friday, March 21, 2014

गर चिराग मेरे मज़ार पर जला होता



8 comments:

  1. बहुत सुंदर अनिल जी.पोस्ट को थोड़ा एडिट कर लें और वर्ड वेरिफिकेशन को ऑफ कर दें.
    शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर प्रणाम सर!
      सर कोशिश किया हूँ. अब पक्तियों में मात्राओं की आसमानता प्रदर्शित हो रही है.......आप सभी का मार्गदर्शन अपेक्षित है.......

      Delete
  2. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. हार्दिक आभार श्रीमान .........................साथ ही मार्गदर्शन करते रहे............

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 29/03/2014 को "कोई तो" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1566 पर.

    ReplyDelete
  5. हार्दिक आभार.............श्रीमान!

    ReplyDelete